श्रेयस योजना shreyas scheme2023: SC एवं OBC छात्रों की शिक्षा के लिए मुफ्त कोचिंग योजना 2,300 करोड़ रुपये से अधिक आवंटित

हजारों लोगों को सशक्त बना रही श्रेयस योजनाshreyas scheme: एससी एवं ओबीसी छात्रों की शिक्षा के लिए 2014 से अब तक 2,300 करोड़ रुपये से अधिक आवंटित

Contents

श्रेयस योजना shreyas scheme श्रेयस अम्‍ब्रेला योजना के तहत 4 केंद्रीय उप-योजनाएं- अनुसूचित जाति (एससी) के छात्रों के लिए टॉप क्‍लास शिक्षा, एससी एवं अन्‍य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के छात्रों के लिए मुफ्त कोचिंग योजना, एससी के लिए राष्‍ट्रीय प्रवासी योजना और एससी छात्रों के लिए राष्‍ट्रीय फेलोशिप- शामिल हैं। चूंकि ये सभी केंद्रीय उप-योजनाएं हैं, इसलिए इन योजनाओं के लिए राज्यवार आंकड़े नहीं रखे जाते हैं। श्रेयस के तहत उप-योजनाओं का पिछले 9 वर्षों यानी 2014-15 से अब तक के आवंटन, व्यय और लाभार्थियों की संख्या आदि का संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है:

 

  1. श्रेयस योजनाshreyas schemeएससी एवं ओबीसी छात्रों के लिए मुफ्त कोचिंग योजना:Free coaching scheme for SC and OBC students

श्रेयस योजना shreyas scheme का उद्देश्य आर्थिक रूप से कमजोर अनुसूचित जाति (एससी) और अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के उम्मीदवारों के लिए अच्छी गुणवत्ता की कोचिंग सुविधा प्रदान करना है ताकि वे सार्वजनिक/ निजी क्षेत्र में उचित रोजगार हासिल करने अथवा प्रतिष्ठित तकनीकी एवं व्यावसायिक उच्च शिक्षा संस्थानों में प्रवेश सुनिश्चित करने के लिए प्रतियोगिता एवं प्रवेश परीक्षाओं में शामिल हो सकें। इस योजना के तहत कुल पारिवारिक आय की सीमा 8 लाख रुपये प्रति वर्ष है।

read more

इसके तहत प्रति वर्ष 3,500 स्लॉट आवंटित किए जाते हैं। इसमें एससी एवं ओबीसी छात्रों का अनुपात 70:30 है और प्रत्येक श्रेणी में महिलाओं के लिए 30 प्रतिशत स्लॉट आरक्षित है। एससी वर्ग में पर्याप्त संख्या में अभ्यर्थी उपलब्ध न होने की स्थिति में मंत्रालय इस अनुपात में छूट दे सकता है। मगर, किसी भी स्थिति में 50 प्रतिशत से कम एससी छात्रों को अनुमति नहीं दी जाएगी।

श्रेयस योजना shreyas scheme के तहत वर्ष 2014-15 से 2022-23 तक 19,995 लाभार्थियों के लिए कुल 109.77 करोड़ रुपये जारी किए गए हैं।

श्रेयस योजना(shreyas scheme)
श्रेयस योजना shreyas scheme
  1. श्रेयस योजना shreyas scheme एससी छात्रों के लिए टॉप क्‍लास शिक्षा:Top class education for SC students

श्रेयस योजना shreyas schemeका उद्देश्य पूर्ण वित्तीय सहायता प्रदान करते हुए अनुसूचित जाति के छात्रों के बीच गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को बढ़ावा देना है। इस योजना के लाभार्थियों में 12वीं कक्षा से आगे की पढ़ाई करने वाले अनुसूचित जाति के छात्र होंगे। यह छात्रवृत्ति पाठ्यक्रम शुरू होने से लेकर पूरा होने तक जारी रहेगी जो छात्र के संतोषजनक प्रदर्शन पर निर्भर करेगी।

इस योजना के तहत कुल पारिवारिक आय की सीमा 8 लाख रुपये प्रति वर्ष है। फिलहाल इस योजना के दायरे में 266 उच्च शिक्षा संस्थान हैं।

इनमें सभी आईआईएम, आईआईटी, एनआईटी, आईआईआईटी, एम्स, एनआईएफटी, एनआईडी, एनएलयू, आईएचएम, सीयू एवं राष्ट्रीय महत्व के संस्थान, एनएएसी ए++ मान्यता प्राप्त संस्थान और शीर्ष 100 राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग फ्रेमवर्क (एनआईआरएफ) वाले संस्‍थान जैसे तमाम सरकारी एवं निजी संस्थान शामिल हैं।

 

श्रेयस योजना shreyas scheme के तहत छात्रवृत्ति की कुल संख्या वर्ष 2021-22 से 2025-26 की अवधि के लिए 21,500 (वर्ष 2021-22 के लिए 4,100, वर्ष 2022-23 के लिए 4,200, वर्ष 2023-24 के लिए 4,300, वर्ष 2024-25 के लिए 4,400 तथा वर्ष 2025-26 के लिए 4,500) तक सीमित रहेगी।

इस योजना के तहत, (i) पूरी ट्यूशन फीस एवं वापस न किए जाने वाले शुल्क (निजी क्षेत्र के संस्थानों के लिए प्रति छात्र 2.00 लाख रुपये प्रति वर्ष की सीमा होगी) (ii) अध्ययन के पहले वर्ष में 86,000 रुपये का शैक्षणिक भत्ता और बाद के वर्षों में आवास, भोजन आदि अन्य खर्चों के लिए 41,000 रुपये प्रति वर्ष प्रदान किए जाते हैं।

वर्ष 2014-15 से वर्ष 2022-23 तक 21,988 लाभार्थियों के लिए कुल 398.43 करोड़ रुपये जारी किए गए हैं।

श्रेयस योजना(shreyas scheme)
श्रेयस योजना shreyas scheme

(iii) श्रेयस योजना shreyas scheme एससी के लिए राष्‍ट्रीय प्रवासी योजना:National Migrant Scheme for SC:

इस योजना के तहत अनुसूचित जाति (115 स्लॉट), गैर-अधिसूचित, घुमंतू एवं अर्ध-घुमंतू जनजातियां (6 स्‍लॉट), भूमिहीन खेतिहर मजदूर एवं पारंपरिक कारीगर (4 स्लॉट) से चयनित छात्रों को विदेश में स्‍नातकोत्‍तर एवं पीएचडी स्‍तर की पढ़ाई के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है। फिलहाल इस योजना के तहत 125 स्लॉट आवंटित किए गए हैं।

 

इस योजना का लाभ उन छात्रों को मिल सकता है जिनकी कुल पारिवारिक आय 8 लाख रुपये प्रतिवर्ष से कम है, जिन्‍होंने पात्रता परीक्षा में 60 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्‍त किया हो, जिनकी आयु 35 वर्ष से कम हो और जिन्‍होंने शीर्ष 500 क्यूएस रैंकिंग वाले विदेशी संस्थानों/ विश्वविद्यालयों में प्रवेश लिया हो। इस योजना के तहत लाभार्थियों को पूरी ट्यूशन फीस, मेंटीनेंस एवं आकस्मिकता भत्ता, वीजा शुल्क, आने-जाने का हवाई किराया आदि प्रदान किया जाता है।

इस  योजना के तहत वर्ष 2014-15 से वर्ष 2022-23 तक 950 लाभार्थियों के लिए कुल 197.14 करोड़ रुपये जारी किए गए हैं।

श्रेयस योजना shreyas scheme के लांच की जानकारी (SHREYAS Scheme Launched Details)

योजना की जानकारी बिंदु योजना की जानकारी
योजना का नाम श्रेयस योजना
योजना का लांच मानव एवं संसाधन मंत्री प्रकाश जावडेकर द्वारा
योजना की घोषणा फरवरी, 2019
योजना के लाभार्थी नए नॉन – टेक्निकल ग्रेजुएट्स छात्र
विभागों द्वारा देखरेख मानव संसाधन विकास मंत्रालय, श्रम एवं रोजगार मंत्रालय और कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय
संबंधित योजना राष्ट्रीय शिक्षा प्रोत्साहन योजना
योजना का लक्ष्य 50 लाख छात्र

(iv) श्रेयस योजना shreyas scheme एससी छात्रों के लिए राष्‍ट्रीय फेलोशिप:National Fellowship for SC Students

इस योजना के तहत अनुसूचित जाति के छात्रों को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा मान्यता प्राप्त भारतीय विश्वविद्यालयों/ संस्थानों/ कॉलेजों में विज्ञान, मानविकी एवं सामाजिक विज्ञान में एम. फिल/ पीएचडी डिग्री की उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए फेलोशिप प्रदान की जाती है।

 

योजना के तहत प्रति वर्ष 2,000 नए स्लॉट (विज्ञान के लिए 500 और मानविकी एवं सामाजिक विज्ञान के लिए 1,500) प्रदान किए जाते हैं। इसके लाभार्थियों में ऐसे छात्र शामिल हैं जिन्होंने यूजीसी की राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा- जूनियर रिसर्च फेलोशिप (एनईटी- जेआरएफ) उत्तीर्ण की है। विज्ञान श्रेणी के लाभार्थियों में ऐसे जूनियर रिसर्च फेलो शामिल हैं जिहोंने यूजीसी- वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (यूजीसी-सीएसआईआर) संयुक्‍त परीक्षा उत्‍तीर्ण की है।

श्रेयस योजना(shreyas scheme)
श्रेयस योजना(shreyas scheme)

एचआरए सहित फेलोशिप की रकम इस प्रकार है:श्रेयस योजना shreyas scheme

क्रम संख्‍या मद देय रकम
जेआरएफ एसआरएफ
1. सभी वर्गों में फेलोशिप पहले दो वर्षों के लिए 31,000 रुपये प्रति महीना शेष अवधि के लिए 35,000 रुपये प्रति महीना
2. मानविकी एवं सामाजिक विज्ञान के लिए आकस्मिकता पहले दो वर्षों के लिए 10,000 रुपये प्रति महीना शेष अवधि के लिए 20,500 रुपये प्रति महीना
3. विज्ञान, इंजीनियरिंग एवं प्रौद्योगिकी के लिए आकस्मिकता पहले दो वर्षों के लिए 12,000 रुपये प्रति महीना शेष अवधि के लिए 25,000 रुपये प्रति महीना

 

श्रेयस योजना shreyas scheme को लागू करने में 3 ट्रैक

इस योजना का बेहतर संचालन हो सके इसलिए इस योजना को 3 ट्रैक में लागू किया जायेगा

पहला ट्रैक ऐड ऑन एप्रेंटिसशिप है जिसके तहत वे छात्र जो वर्तमान में डिग्री पूरी कर रहे हैं उन्हें कौशल विकास एवं रोजगार मंत्रालय के सेक्टर स्किल काउंसिल द्वारा की गई चयनित सूची में से अपनी पसंद की नौकरी चुनने के लिए बुलाया जायेगा और उन्हें उसके अनुसार प्रशिक्षित किया जायेगा

दूसरा ट्रैक एम्बेडेड एप्रेंटिसशिप हैए जिसमें मौजूदा कार्यक्रमों को बीएए बीएससी या बीकॉम कोर्सेज में पुनः मिला दिया जायेगा साथ ही इसमें न केवल शैक्षिक इनपुट एवं व्यवसायिक इनपुट को शामिल किया जायेगा बल्कि इसमें कौशल की आवश्यकता के आधार पर उन छात्रों को 6 से 10 महीने तक शिक्षा भी प्रदान की जाएगी
अंतिम ट्रैक में श्रम और रोजगार मंत्रालय के राष्ट्रीय करियर सेवा पोर्टल को उच्च शिक्षा संस्थानों के साथ जोड़ा जायेगा

 

श्रेयस योजना shreyas scheme के लिए आवेदन फॉर्म एवं आवेदन प्रक्रिया -Application form and application process for Shreyas Yojana

सभी इच्छा रखने वाले आवेदकों को शिक्षा और स्टाइपेंड स्कूल के बारे में आवश्यक जानकारी प्राप्त करने के लिए सबसे पहले योजना के अधिकारिक पोर्टल पर लॉग इन करना होगाए जोकि जल्द ही जारी किया जायेगा
इससे पहले कि छात्र आवेदन करे शैक्षिक संस्थान की यह जिम्मेदारी होगी कि वे इस कार्यक्रम के तहत खुद को रजिस्टर करें
इसके लिए संस्थानों को इसके अधिकारिक पोर्टल पर लॉग इन करना होगा और उन कोर्सेज और प्रशिक्षण कार्यक्रमों को हाईलाइट करना होगा जिनमे वे रुचि रखते हैं

फिर छात्र वैकेंसियों के अनुसार अपनी प्रोफाइल को मैच कर सकेंगेए और रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरकर आवेदन कर सकेंगे
जब रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी तो आप इसकी रिसिप्ट प्राप्त कर अपने रजिस्ट्रेशन की पुष्टि कर सकते हैं

 

श्रेयस योजना(shreyas scheme)
श्रेयस योजना shreyas scheme

श्रेयस योजना shreyas schemeका संचालन  (Operation of The SHREYAS Scheme

 

इस प्राथमिक योजना का संचालन कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय एवं श्रम और रोजगार मंत्रालय के साथ मिलकर किया जायेगा यह ऑपरेशन कैसे किया जायेगा यह जानकारी इस प्रकार है

सेक्टर स्किल काउंसिल यानि एसएससी द्वारा 100 से अधिक ऐसे क्षेत्रों की पहचान की गई हैए जहाँ छात्र शिक्षा के अवसर प्राप्त कर सकेंगेए वे अपने प्लेसमेंट सेल्स की मदद से सम्बंधित कॉलेजों के साथ उन उद्योगों की पहचान करेंगे जहाँ प्रशिक्षण दिया जाएगा
उच्च शैक्षणिक संसथान श्रेयस पोर्टल पर लॉग इन कर सकते हैंए और कौशल क्षेत्रों में अपनी रूचि व्यक्त कर सकते हैंए इसके साथ ही अपेक्षित छात्र भी इसका विकल्प चुन सकते हैं
उनके द्वारा की गई मांग की जाँच की जाएगी और जोकि सम्बंधित सेक्टर स्किल काउंसिल द्वारा की जाएगी

इसके बाद वे ही पोर्टल पर जो पद उपलब्ध होंगे उसकी सत्यापन करेंगे

इस सत्यापन के आधार पर ही उच्च शिक्षा संसथान द्वारा श्रेयस पोर्टल पर छात्रों के नाम अपलोड किये जायेंगे
इसके बाद एनएपीएस उद्योग और छात्र के बीच कॉन्ट्रैक्ट जनरेट करेगाण् और फिर मासिक स्टाइपेंड का भुगतान उद्योग द्वारा किया जायेगाए और इसमें से 25: यानि लगभग प्रतिमाह अधिकतम 1500 रूपये एनएपीएस पोर्टल द्वारा अदा किये जायेंगे
फिर एसएससी द्वारा प्रोग्रेस की निगरानी की जाएगी और प्रशिक्षण अवधि के अंत में परीक्षा आयोजित होगी जो छात्र इसमें सफल होंगे उन्हें प्रमाण पत्र प्रदान किया जायेगाण् ये प्रमाण पत्र रोजगार प्राप्त करने के लिए पूरे भारत में मान्य होंगे

नोट: श्रेयस योजना shreyas scheme के तहत कोई वित्‍तीय सीमा नहीं है।

वर्ष 2014-15 से वर्ष 2022-23 तक 21,326 लाभार्थियों के लिए कुल 1,628.89 करोड़ रुपये जारी किए गए हैं।

 

ये खबर भी पढ़ें

 

 

Leave a Comment